छठवें दिन भी अधिवक्ता हड़ताल पर, न्यायिक कार्य पूरी तरह लड़खड़ाया

0
51

-वादकारियों को रहा टोटा, अधिवक्ता सीटों पर छाया रहा सन्नाटा


हाथरस। जिला एवं सत्र न्यायालय पर सोमवार को भी कलमबंद हड़ताल के चलते न्यायिक कार्य नहीं हो सका। अधिवक्ताओं की सीटों में सन्नाटा सा रहा तो कार्यालयों में भी कामकाज ठप रहा। सुबह से ही अधिवक्ता अनशन स्थल पर पहुंच गए और जमकर नारेबाजी की। इस मौके पर कई गांव के प्रधानों ने अपना विरोध जताया और कई संगठनों ने अपना समर्थन डिस्ट्रिक्ट बार एसोसिएशन को दिया।
विदित हो कि बीते मंगलवार को जब जिला एवं सत्र न्यायालय पर यह जानकारी हुई थी कि मुरसान थाने को सादाबाद वाह्य न्यायालय से लिंक कर दिया गया है तो अधिवक्ताओं ने डिस्ट्रिक्ट बार एसोसिएशन के बैनर तले कलमबंद हड़ताल शुरू कर दी थी। जब लगातार न्यायालय में कलमबंद हड़ताल के चलते हुए न्यायिक कार्य चरमरागया। जबकि शनविार को अधिवक्ताओं, प्रधानों, व्यापारियों और अन्य सामाजिक संगठनों के एकसाथ आने पर यहां पर राष्ट्रीय लोक अदालत का भी बहिष्कार किया गया। जबकि रविवार को अधिवक्त, व्यापारियों और किसानों ने मिलकर मुरसान के मुख्य बाजारों में होते हुए जुलूस निकाला और रामलीला मैदान पर जनसभा कर इसका का विरोध किया था।
सोमवार को अनशन पर विरोध के समर्थन में महेंद्र सिंह दिवानिया ने कहा कि यह एक एकजुटता का ही नजारा है कि जहां लोक अदालत में कई लाख का राजस्व जाता था वह मात्र हजारों में ही सिमटकर रह गया। वह भी लिंक कोर्टों पर जोर लगा कर कराया गया है। यह जिले के न्याय प्रशासन को एक कड़ा जबाव है। कार्यक्रम का संचालन करते हुए हितेंद्र सिंह गूड्डू ने फिर दौहराया कि यह न्यायसंगत नहीं है कि जिस थाने में जिला मुख्यालय है उसकी को वाह्य न्यायालय से लिंक कर दिया जाय। इस सबके लिए जिले के न्याय प्रमुख को ही वक्ताओं ने दोषी करार देते हुए एक अनसुलझा निर्णय बताया।
इस मौके पर अनशन पर राधेलाल पचैरी, मतेंद्र सिंह सिसोदिया, बालकिशन यादव, भगवान सिंह, मुकेश चतुर्वेदी व अतुलआंधीवाल बैठे। जबकि अध्यक्षता एल्डर कमेटी प्रमुख व वरिष्ठ अधिवक्ता लक्ष्मीनारायण शर्मा ने की। संचालन हितेंद्रगुड्डू ने किया। जबकि अनशन स्थल पर वरिष्ठ अधिवक्ता भागीरथ शर्मा, त्रिलोकी शर्मा, कपिलमोहन गौड़, स्वराज खान, सुरेश चैहान, यतीश शर्मा, रामकुमार गुप्ता, यज्ञदत्त गौतम, शिवाकांत शर्मा, देवेश दीक्षित, रामप्रकाश चैधरी, पियूष वशिष्ठ, राजीव तिवारी, राजकुमार, उमेश गुप्ता, मनमोहन शर्मा, संजय दीक्षित, शेर सिंह, विशंबर सिंह, कु.इशरार पुंढ़ीर, मनु भट्ट, योगांश पाराशर, शशांक सारस्वत, कु. पूजा, योकिगता शर्मा, कु.नोसी अख्तर, प्रिया गुप्ता, मधुवाला, ब्रजमोहन, लल्लनबाबू, रामकुमार गुप्ता, यतीश शर्मा, दिगंबर सिंह, सुभाष चौधरी, सुधीर चौधरी, बालकिशन उपाध्याय आदि सैकड़ों अधिवक्ता मौजूद थे।

Hits: 5

[supsystic-gallery id=6] [supsystic-gallery id=5]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here