बिना एक भी अच्छी इंटरनेशनल पारी खेले दुनिया में फैला इस भारतीय बल्लेबाज का खौफ

0
161

नई दिल्ली। क्या कोई इस बात की कल्पना कर सकता है कि बिना एक भी अच्छी इंटरनेशनल पारी खेले, किसी बल्लेबाज का खौफ देश विदेश में फैल जाए..? जी हां..! यह बात न्यूजीलैंड में खेल रही भारतीय टीम के एक बल्लेबाज पर पूरी तरह सच हो रही है। जरा सोचिए.. आखिर कौन है वह बल्लेबाज !

…और वह बल्लेबाज है सांवला सलोना संजू विश्वनाथ सैमसन। घरेलू क्रिकेट में तो संजू सैमसन को धमाकेदार बल्लेबाज माना जाता है लेकिन इंटरनेशनल लेवल पर अभी तक उन्होंने एक भी अच्छी पारी भारत के लिए नहीं खेली है, हालांकि क्रिकेट के जानकार मानते हैं कि यह मात्र एक खराब दौर है, जिसमें संजू सैमसन का बल्ला नहीं चल रहा है। लेकिन जिस दिन वह रन बनाएंगे, उस दिन बेरहमी से विपक्षी टीम के गेंदबाजों को धोकर रख देंगे। यही कारण है कि न्यूजीलैंड ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के क्रिकेट जानकार तो संजू सैमसन के नाम से परिचित हैं ही, हाल ही में पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने भी अपने यूट्यूब चैनल पर संजू सैमसन का नाम एक बड़े बल्लेबाज के तौर पर लिया है।

बहरहाल अब देखना यह है कि संजू सैमसन कब अपने बल्ले की वही चमक लोगों को दिखाते हैं जिसके नाम पर उन्होंने अब तक अपना नाम कमाया है।

ऋषभ पंत के लिए सबसे बड़ा खतरा

संजू सैमसन एक विकेटकीपर बल्लेबाज है। ऐसे में जब उनका बल्ला चलेगा तो सबसे पहले ऋषभ पंत की नींद उड़ेगी। दरअसल भारत के क्रिकेट विशेषज्ञ ऋषभ पंत को भविष्य का स्टार बताते तो है लेकिन साथ ही संजू सैमसन की बल्लेबाजी क्षमता को भी समझते हैं। हालांकि बल्लेबाज के तौर पर तो दोनों एक साथ टीम में खेल सकते हैं। जिस तरह आज केएल राहुल के रहते ऋषभ पंत या संजू सैमसन टीम में खेल रहे हैं।

आईपीएल ने दी नई पहचान

संजू विश्वनाथ सैमसन को सामान्यत संजू सैमसन कहा जाता है। घरेलू मैदान में केरल का प्रतिनिधित्व करते हैं। वह आईपीएल और चैम्पियंस लीग ट्वेंटी-20 में अर्धशतक बनाने वाले सबसे कम उम्र के खिलाड़ी है। वह रॉयल चैलेंजर्स बेंगलूर बनाम राजस्थान रॉयल्स के मैच में 29 अप्रैल 2013 को यह हासिल क। वह एक आधिकारिक सर्वेक्षण में आईपीएल 2013 में सीजन का सर्वश्रेष्ठ युवा खिलाड़ी के रूप में घोषित किया गया।

प्रारंभिक जीवन

11 नवंबर 1994 को इनका जन्म तिरुअनंतपुरम में हुआ है। वह एक विकेटकीपर बल्लेबाज है। उनके पिता सैमसन विश्वनाथ दिल्ली पुलिस के एक पुलिस कांस्टेबल थे, जिन्होंने संजू के क्रिकेट कैरियर को आकार देने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। उनके माता का नाम लीजी है। संजू सेंट जोसेफ हायर सेकेंडरी स्कूल तिरुवनंतपुरम केरल से अपनी स्कूली शिक्षा पूरी की है।

प्रथम श्रेणी कैरियर

संजू बहुत कम उम्र में क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया था। संजू ने 3 नवम्बर 2011 को केरल रणजी ट्राफी टीम के लिए कैरियर की शुरुआत की। संजू ने अपने पहले मैच में ही अपना शतक पूरा किया। उस समय संजू की उम्र महज 15 साल थी । वह अंडर-16 के अलावा, अंडर-19 के केरल राज्य क्रिकेट टीमों के कप्तान थे। संजू जून 2012 में मलेशिया में आयोजित अंडर-19 एशिया कप टूर्नामेंट में भारत का प्रतिनिधित्व किया। उन्होंने 3 मैचों में केवल 14 रन बनाने से उनका प्रदर्शन टूर्नामेंट में औसत के नीचे था। 2013 में संयुक्त UAE में अंडर-19 एशिया कप के अंतर्गत, संजू ने भारत पाकिस्तान के खिलाफ फाइनल में अपने शतक के जरिये टूर्नामेंट जीता।

Hits: 108

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here