मथुरा

अब एक बारिश का पानी भी नहीं झेल पाएगी महुअन की पोखर

0Shares

-बरारी माइनर के टूटने से लबालब हुआ गाँव का तालाब

-आसपास के खेतों में भी एक एक फुट से ज्यादा पानी जमा

भरतलाल गोयल, न्यूज फॉर लाईव

फरह। महुअन का तालाब अब एक बारिश का पानी भी नहीं झेल पाएगा, जबकि मॉनसून का मौसम चल रहा है। यदि अब बरसात हुई तो पानी खेतों के साथ साथ ग्रामीणों के घरों में भी कुलांचे मारेगा।
गाँव के तालाब की दो ढाई साल पूर्व खुदाई हुई थी। ठेकेदार द्वारा खुदाई इस तरह की गई कि तालाब का बॉटम और संकरा हो गया। फलतः उसके पानी धारण करने की क्षमता कम हो गई।

तीन चार दिन पूर्व बरारी-महुअन माइनर की पटरी टूटने से गाँव का तालाब लबालब हो गया है, वरन पानी खेतों में भी पहुंच गया। किसानों की 50 बीघा खड़ी फसल जलमग्न हो गई। ग्रामीणों ने अपने प्रयास से माइनर के पानी को जब तक रोका, तब तक तालाब ऊपर तक उफान हो गया। ग्रामीणों का कहना है कि तालाब में मछली पालन भी होता है। इस ओर न तो सिंचाई विभाग ध्यान दे रहा न मत्स्य विभाग। स्थानीय अथॉरिटी का तो कोई सरोकार रह ही नहीं गया है। किन्तु अब बारिश हुई तो तालाब पानी को समेट नहीं पाएगा और आसपास के खेतों के साथ घरों में भी जल प्लावन की स्थिति पैदा होगी।

टूटी पटरी को जोड़ा

ग्रामीणों ने माइनर की टूटी पटरी को भी जोड़ दिया है।
पटरी लगभग 20 मीटर तक टूट गई थी। दिनभर 10-15 ग्रामीण पटरी को जोड़ने में लगे रहे।

Hits: 45

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *